Cryptocurrency kya hoti hai? what is cryptocurrency in Hindi?

Aim: इस आर्टिकल को लिखने का मकसद है आपको बताना के cryptocurrency kya hai? ये कैसे काम करती है ? इसके टाइप्स क्या है वगैरा वगैरा।

क्या आप जानते है Cryptocurrency kya hoti hai? जैसा के आपको पता होगा पुराने ज़माने में कोई भी मुद्रा (currency) नहीं थी चीजों के बदले चीजों का लेनदेन हुआ करता था | इसके बाद नोट और सिक्के का चलन शुरू हुआ. जोके आज भी शुरू है |

लेकिन आजकल इसके आलावा भी एक ऐसी करेंसी है जो के बहुत trending है। इसका नाम है क्रिप्टोकोर्रेंसी (Cryptocurrency). ye एक Digital cash प्रणाली है, जो कम्प्यूटर Algorithm पर बनी है |

 यह सिर्फ Digital के रूप में ऑनलाइन रहती है. इस पर किसी भी देश का कोई Control नहीं है. तो चलिए डिटेल में जानते है cryptocurrency kya hoti hai?

Currency मतलब क्या होता है?(What does currency mean)

cryptocurrency क्या होती है ये जानने से पहले हमें ये जानना ज़्यादा ज़रूरी है के currency मतलब क्या? एक ऐसे money system जो किसी देश द्वारा मान्यता प्राप्त हो और वहां के लोगों द्वारा धन (currency) के माध्यम के रूप में इस्तेमाल की जाती हो या जिसके बदले कोई भी वस्तु या सेवा खरीदी जा सके करेंसी कहलाती है जैसे सिक्के या नोट |

दुनिया के हर देश के पास अपनी specific currency है. भारत की currency रुपया (Rupees), अमेरिका की डॉलर (Dollar) और सऊदी अरब की Riyal है |

आमतौर पर Currency को कागज या धात पर print किया जाता है इसलिए इसको physical currency कहते हैं जिसे हम देख सकते हैं, छू सकते हैं और पॉकेट में भी रख सकते हैं लेकिन cryptocurrency kafi अलग है।

Cryptocurrency meaning?

Cryptocurrency meaning in English Cryptocurrency/ digital currency
Cryptocurrency meaning in Hindi इलेक्ट्रॉनिक सिक्का क्रिप्टोकोर्रेंसी
Cryptocurrency meaning in Urdu الیکٹرانک سککا
Cryptocurrency meaning in Marathi क्रिप्टोकोर्रेंसी
cryptocurrency meaning

आखिर क्या होती है Cryptocurrency ?(what is Cryptocurrency?)

Cryptocurrency एक प्रकार की digital संपत्ति है जो आमतौर पर currency के रूप में काम करती है। Cryptocurrency को संभव बनाने वाली प्रणाली cryptography (“क्रिप्टो”) पर आधारित है |

यह decentralized system के जरिए मैनेज की जाती है इसमें लेनदेन का  digital signature के जरिए   verification किया जाता है और cryptography की मदद से उसका रिकॉर्ड रखा जाता है।

Cryptocurrency एक आभासी मुद्रा (virtual currency)  है जो cryptography द्वारा सुरक्षित है और blockchain technology पर आधारित है इसीलिए इसे कॉपी नहीं किया जा सकता |

यह सिर्फ digitally उपलब्ध है physically इसका कोई वजूद नहीं है यह पूरी तरह से decentralized है मतलब इस पर किसी भी country का कोई नियंत्रण नहीं है इसीलिए कुछ देश इसके खिलाफ है और वहां यह illegal है जबकि  Bitcoin की लोकप्रियता की वजह से कई देशों में यह  legal कर दी गई है |

Cryptocurrency किसने कब और क्यों बनाई? History?(Who invented Cryptocurrency?)

इसके बारे में ज्यादा Information नहीं है देखा जाए तो दुनिया में इससे पहले भी कई digital currency आविष्कार (invent) हो चुके हैं।

एक रिपोर्ट के द्वारा electronic gold जोके USA ने 1996 में बनाया था, 2008 में यह बैन कर दिया गया। वैसा ही साल 2000 में नीदरलैंड ने पेट्रोल भरने के लिए स्मार्ट card शुरू किया था।

1983 में, अमेरिकी क्रिप्टोग्राफर David Chaum ने  E-Cash नामक एक अनाम क्रिप्टोग्राफ़िक इलेक्ट्रॉनिक मुद्रा की कल्पना की। बाद में, 1995 में, उन्होंने डिजीकैश (Digicash) के माध्यम से इसे लागू किया।

2009 में Satoshi Nakamoto ने cryptocurrency शुरू किया था, जो के Bitcoin था. इसने SHA-256, एक cryptographic hash function का उपयोग अपनी प्रूफ-ऑफ़-वर्क स्कीम में किया।

अप्रैल 2011 में, Namecoin को एक विकेन्द्रीकृत DNS बनाने के प्रयास के रूप में बनाया गया था |

इसके तुरंत बाद, उसी साल अक्टूबर 2011 में, Litecoin जारी किया गया। यह अपने हैश फ़ंक्शन के रूप में scrypt का उपयोग करता है।

कैसे काम करती है Cryptocurrency? (How does Cryptocurrency work?)

हम अब तक ये तो जान चुके है की cryptocurrency kya hoti hai. अब ये देखते है की digitally ये करेंसी काम कैसे करती है। Cryptocurrency में लेनदेन का रिकॉर्ड blockchain के माध्यम से किया जाता है इसकी निगरानी पावरफुल कंप्यूटर से की जाती है जिसको cryptocurrency mining कहते हैं और जिनके द्वारा माइनिंग की जाती है उन्हें माइनर minors कहते हैं |

जब भी कोई transaction होता है तो इसकी जानकारी blockchain में दर्ज की जाती है, यानी उसे एक block में रखा जाता है. इस ब्लॉक की सिक्योरिटी और इंक्रिप्शन minors करते है।

इसके लिए वे एक Cryptographic पहेली को हल कर ब्लॉक के लिए उचित Hash (एक कोड) खोजते हैं. फिर इसे blockchain में जोड़कर नेटवर्क में मौजूद अन्य कंप्यूटर से  verify किया जाता है यह प्रोसेस consensus कहलाते हैं।

अगर कंसेंसस हो जाए इसका मतलब है ब्लॉक सुरक्षित (secure) है और वह सही पाया जाए तो  उसे सिक्योर करने वाले माइनर को cryptocoin दे दिए जाते हैं. यह एक इनाम (reward) है जिसे काम का सबूत माना जाता है।

Cryptocurrency Market

Cryptocurrency मार्केट यानी कि वह जगह जहां Cryptocurrency को खरीदा जा सके, बेचा जा सके या उसकी trading की जा सके|

इसे cryptocurrency exchange, currency exchange DEC, coin market और Crypto market जैसे नामों से भी जाना जाता है.

यहां पर आप किसी भी cryptocurrency को खरीद और बेच सकते हैं |

Cryptocurrency के प्रकार ? Types of Cryptocurrency?

कुल 1800 से ज्यादा क्रिप्टो मुद्राएं उपलब्ध हैं. जिनमें से कुछ यह है

  • Bitcoin (btc)
  • एथेरियम (ETH),
  • लिटकोइन (LTC),
  • डॉगकॉइन (Dogecoin)
  • फेयरकॉइन (FAIR),
  • डैश (DASH),
  • पीरकॉइन (PPC),
  • रिपल (XRP)

Cryptocurrency को कैसे खरीदे और बेचे?|How to Buy and Sell Cryptocurrency?

बाजार में Cryptocurrency की लोकप्रियता के चलते ढेरो crypto exchange प्लेटफॉर्म्स मौजूद हैं. जिसकी वजह से Cryptocurrency को खरीदना और बेचना काफी आसान हो गया है।

WazirX, Coinswitch Kuber Zebpay, और CoinDCX GO ये इंडिया में अवेलेबल popular प्लेटफॉर्म्स है. COINBASE और BINANCE ये इंटरनेशनल प्लेटफॉर्म्स है जहां से इनवेस्टर्स दूसरे कॉइन जैसे बिटकॉइन, डॉगकॉइन और एथेरियम भी खरीद सकते हैं।

ये सभी प्लेटफॉर्म चौबीसों घंटे खुले रहते हैं. Cryptocurrency को खरीदने और बेचने की प्रक्रिया भी काफी आसान है. आपको केवल इन प्लेटफॉर्म्स पर sign up करना होगा. इसके बाद अपना KYC process   पूरा कर वॉलेट में पैसे ट्रांसफर (Money transfer) करना होगा. इसके बाद आप खरीदारी कर पाएंगे।

Cryptocurrency के फायदे और नुकसान ?| pros and cons of cryptocurrency?

सब पहले हम क्रिप्टोकुरेंसी के फायदों के बारे में देखेंगे।

  • Cryptocurrency निवेश में कोई घोटाला या धोखाधड़ी नहीं है
  • व्यक्तिगत जानकारी के रिसाव (leakage) की कोई संभावना नहीं
  • आप इसे बिना किसी approval के किसी भी व्यक्ति को आसानी से transfer कर सकते हैं

आइए Cryptocurrency के नुक्सान के बारे में बात करते हैं।

  • आमतौर पर Cryptocurrency की मदद से इंटरनेट पर अवैध भुगतान (payments) और गतिविधियाँ की जा सकती हैं
  • Wallet में किसी भी तकनीकी  error के कारण आप अपनी क्रिप्टोकरेंसी को नुकसान से नहीं बचा सकते हैं
  • आप अनुमान नहीं लगा सकते कि values कब बढ़ते हैं या कब गिरते हैं।

Cryptocurrency से पैसे कैसे कामये? (How to earn by cryptocurrency?)

Cryptocurrency से पैसे कमाना मुश्किल काम नहीं है.  क्रिप्टोकरेंसी से legal aur illegal पैसे कमाने के कई तरीके है लेकिन क्रिप्टो करेंसी से Legal तरीके से पैसे कमाने के सिर्फ कुछ ही तरीके है जो के ये है।

  • Crypto mining से क्रिप्टो कमाए
  • Blockchain games से क्रिप्टो कमाए
  • Airdrops से क्रिप्टो कमाए
  • Exchange plateforms पर रेफरल और साइन अप से से क्रिप्टो कमाए

FAQs

[sp_easyaccordion id=”785″]

 

Conclusion

आप अब अच्छे से जान चुके है की cryptocurrency kya hai? ये एक digital संपत्ति है जिसे exchange के माध्यम के रूप में काम करने के लिए design किया गया है, जो cryptography द्वारा काम करती है।

क्रिप्टो में निवेश करना शुरू करें, लेकिन सब से पहले क्रिप्टोक्यूरेंसी का व्यापार करना सीखें और हमेशा पूरी जानकारी के आधार पर निर्णय लें।Warna नुकसान के ज़िम्मेदार आप खुद होंगे.

ये Fast और low cost वाले हैं। इसके अलावा, क्रिप्टोकरेंसी investment के लिए famous हो गई है।

 

Leave a Comment